कोहिमा

विकिपिडिया बठेइ
Jump to navigation Jump to search

कोहिमा भारत को नागालैंड प्रान्त को राजधानी हो। यो नागालैंड को भौत निको शहर हो। कोहिमा मि अधिकतर आदिवासी रयाछन। इन आदिवासिको संस्कृति बहुत रंग-बिरंगी छ जो पर्यटलाई बहुत अानन्द दिन्छ । उनलाई यई संस्कृति को झलक हेर्न आनन्द अाउछ। संस्कृति का अलावा पर्यटक यहां कई बेहतरीन रे ऐतिहासिक पर्यटक स्थलको सैर लै गर्न सक्दान। इनमि राज्य संग्राहलय, एम्पोरियम, नागा हेरिटेज कॉम्पलैक्स, कोहिमा गांव, दजुकोउ घाटी, जप्फु चोटी, त्सेमिन्यु, खोनोमा गांव, दज्युलेकी रे त्योफेमा टूरिस्ट गांव प्रमुख हुन।


प्रमुख आकर्षण[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

समाधि[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

द्वितीय विश्व युद्ध का दौरान जापानिहरुले नागालैंड मा हमला गरे। यई हमलामि बड़ी संख्या मि सैनिक रे अधिकारी मारियाथे। हमलामि मारिया सैनिकको गैरीसन हिल मि दफनाईया हो। त्याहा सैनिकलाई समर्पित गरि 1421 समाधि निर्माण गरियाथ्यो। स्थानीय निवासी शहीदलाई श्रद्धांजलि दिनाकि नियमित रूप यहाँ आउछन। स्थानीय निवासिका साथ-साथै पर्यटककामाझ पनि यो समाधिस्थल काफी लोकप्रिय छ। कोहिमा आउन्या पर्यटक इन समाधिको दर्शन जरूर गरिभर जान्छन्।

कोहिमा चर्च[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

नागालैंड की राजधानी कोहिमा मि पर्यटक एशिया को सबसे ठुलो चर्च हेर्नसक्दान।यो चर्च एकदमै ठुलो छ रे यो कोहिमा को पहिचान बन सक्याछ। यई चर्च मि लगभग ३,000 जना सम्मलाई बस्ने व्यवस्था छ । यो लगभग २५,000 वर्ग फीट मि फैलिया छ।पर्यटकलाई याहाको आकार बहुत राम्रो लागन्छ किनकि यहां प्रार्थना गर्यापछी उनलाई शांति का महशुस हुन्छ।

संग्राहलय[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

नागा आदिवासिका संस्कृति संग जोडियाका विशेष दस्तावेज नाईमिल्ला तबैलै उनको संस्कृति और इतिहास काफी रोचक छ। नागालैंड सरकार ले बयावी पहाड़ी मि संग्राहलय को निर्माण गरायाछ। यई संग्राहलय मि नागालैंड की संस्कृति और इतिहास संग जोडिया अनेक वस्तुहरू देख्नसकिन्छ।। इन वस्तुमि कीमती रत्न, हाथी दांत रे मोतिहै बन्या हार, लकड़ी और भैंसिका सींगले बन्या वाद्ययंत्र तथा अन्य वस्तु प्रमुख छन। कला प्रेमिका लागि यई संग्राहलयमि आर्ट गैलरी लै बनाईयाछ। यईमि स्थानीय कलाकारले बनाया खूबसूरत पेंटिंग्स हेर्न रे खरिद गर्न सकिन्छ।

नागा हेरिटेज कॉम्पलैक्स[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

नागालैंड सरकार ले १ दिसम्बर २००३ मि यई कॉम्पलैक्स को उदघाटन गर्याहो। यहां प्रतिवर्ष हॉरनबिल उत्सव मनाईन्छ। उत्सव का अलावा यहां नागालैंड क‍ो छोटो प्रतिरूप हेर्नसकिन्छ। कॉम्पलैक्स मि द्वितीय युद्ध का घटनासंग जोडिया संग्रहालय, खरीदारी का लागि दुकान, खाने-पीने का लागि रेस्तरां रे सांस्कृतिक कार्यक्रमका लागि एम्फीथियेटर को निर्माण गरियाछ। इन सबका अलावा यहां फुलका बगैचाको मनोरम दृश्य हेर्न सकिन्छ। यो कॉम्पलैक्स बहुत खूबसूरत छ रे पर्यटकलाई बहुत आकर्षित गरन्छ।

कोहिमा गांव[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

कोहिमा गांव लाई एशिया को सबसे घना आबादी भयाको गांउ मानिन्छ। यईको स्थापना व्हिनुओ नामक व्यक्ति ले गरेका थिय। यई गांउ लाई भूतकाल रे भविष्यकाल को संगम मानिन्छ। यो भनिन्छकि प्राचीन काल मा यहां सात ताल रे सात द्वार थ्या। हाल एक द्वार लाई छोड़ेर अरु सब गायब भैसकेका छन। यो द्वार बहुतै सुन्दर छ रे यईलाई भैंसि का सींग रे विभिन्न आकार का पत्थरले सजाईया छ जो यईको सुन्दरतालाई बढाई राख्दान। पर्यटकलाई यो बहुत मन पडन्छ रे उनिहरू यईको सुन्दर तस्बिरहरु खिचायर लिन्छन।

दजुकोउ घाटी और जप्फु चोटी[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

कोहिमा का दक्षिण दिशामि 30 कि॰मी॰ की दूरीमाई रया दजुकोउ घाटी बहुत सुन्दर छ। आफ्नो सुन्दरताको भरमा यईले पर्यटकमाझमि खास पहिचान बनायाछ। यहां पर्यटक विभिन्न रङ्ग रे आकार का सुन्दर फूल हेर्नसक्दान। इन फूलमिहै एकोनिटम रे एन्फोबियस प्रमुख रयाछन। दजुकोउ घाटी को सुन्दर दृश्य हेरिसक्यापछि जप्फु टाकुरा को मनोरम दृश्य हेर्नसकिन्छ। यो टाकुरा सदाबहार जंगलले भरियाछ। इन जंगलमि सबसे उच्चो वृक्ष लाई हेर्नसकिन्छ। अपना यई विशेषता का कारण यई पेड़लाई गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्डसमि शामिल गरियाछ।

आवागमन[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

  • वायु मार्ग

नागालैंड के दीमापुर विमानक्षेत्र में हवाई अड्डे का निर्माण किया गया है। यहां से कोहिमा तक पहुंचना काफी आसान है।

  • रेल मार्ग

हवाई अड्डे के अलावा दीमापुर में रेलवे स्टेशन का भी निर्माण किया गया है। दीमापुर से कोहिमा मात्र 74 कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित है।

  • सड़क मार्ग

कोहिमा बस अड्डा नागालैंड का सबसे व्यस्तम बस अड्डा है। यहां से नागालैंड के विभिन्न स्थानों के लिए बसों का परिचालन किया जाता है। बसों के अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग 39 से निजी वाहनों द्वारा भी कोहिमा तक पहुंचा जा सकता है।

सन्दर्भ[सम्पादनस्रोत सम्पादन]

बाहरी सूत्र[सम्पादनस्रोत सम्पादन]